Saturday , May 21 2022

बाबा घुइसरनाथ जी की निकली बारात

बाबा घुश्मेश्वर नाथ धाम में भोलेनाथ का हुआ दिव्य भव्य दूल्हा श्रृंगार महाआरती

बाबा घुइसरनाथ जी की निकली बारात:शिव-पार्वती और गणेश जी की झांकी के साथ शोभायात्रा में शामिल हुए भक्तगण

घुइसरनाथ धाम,प्रतापगढ़ ।बाबा घुश्मेश्वर नाथ धाम मंदिर में भगवान शिव की महाशिवरात्रि का उत्‍सव बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया गया जिसका समापन महाशिवरात्रि पर शिव विवाह के साथ हुआ। महाशिवरात्रि पर भगवान भोलेनाथ का ऐसा श्रृंगार हुआ कि जिसने भी उस रूप को निहारा बस निहारता ही रह गया क्योंकि दूल्हा रूप में बाबा भोलेनाथ अद्भुत दिख रहे थे। भगवान भोलेनाथ का अनोखा श्रृंगार किया गया। शिवपुराण में वर्णित है कि विवाह के अवसर पर जब सभी देवों ने और देवी पार्वती ने भगवान शिव को मनाया तो वह अपने अनुपम सौंदर्य रूप में दर्शन दें तब भोले ने जोगी रूप को त्यागकर मोहिनी रूप बना लिया था जिसे देख देवी पार्वती की माता आनंद विभोर हो गईं थी।एक ओर जहाँ श्रृंगार की तैयारी हो रही थी तो वहीं दूसरी ओर बाबा घुश्मेश्वर नाथ धाम (घुइसरनाथ धाम) से निकली शिव पार्वती की झाँकियों के लिए हजारों श्रद्धालुओं ने मिलकर शोभा यात्रा निकाली जिसमे विभिन्न क्षेत्रों के भक्त गण सम्मिलित हुए ।

गोरखपुर में अखिलेश यादव की चुनावी जनसभा

https://youtu.be/tfqE79O5SUg

शिवरात्रि पर्व के उपलक्ष्य में भव्य शिव बारात निकाली गई। शिव बारात में हजारों की संख्या में शिव भक्तों ने भाग लिया। सोमवार को बाबा घुश्मेश्वर नाथ धाम में भोले की भव्य बारात का लोगों ने पुष्प वर्षा से स्वागत किया।शिवरात्रि महापर्व के उपलक्ष्य में बाबा घुश्मेश्वर नाथ धाम (घुइसरनाथ धाम) मंदिर से निकली शिव बारात क्षेत्र के बाजारों से होती हुई वापस बाबा घुइसरनाथ मंदिर पहुंची। बाबा घुइसरनाथ में भक्तगणों की ओर से शिव बारात में शामिल शिव पार्वती की झांकी ने शोभायात्रा की शान बढ़ाई। बारात में शिव पार्वती, गणपति, राधा-कृष्ण, बजरंगबली, की मनमोहक झांकियां प्रस्तुत की ।बाबा घुश्मेश्वर नाथ धाम (घुइसरनाथ धाम) मंदिर के महंत बाबा मयंक भाल गिरि ने कहा कि भगवान शिव के निराकार रूप से साकार रूप में अवतरण की रात्रि को शिवरात्रि कहा जाता है। उन्होंने कहा कि आक, धतूरा, भांग,बेलपत्री, फूल,धूर्वा,दूध, दही, शहद, घी,शक्कर, सुपारी, लौंग, मेवे,मिठाई और वस्त्र आदि के साथ पूरे विधि विधान के साथ पूजा करें और वहीं उन्होंने यह भी बताया कि बाबा घुइसरनाथ जी का शिव विवाह और दूल्हा श्रृंगार आरती में सैकड़ों भक्तों का उपस्थिति रहना और बाबा भोलेनाथ का मुख निहारना मानो साक्षात भगवान भोलेनाथ दिव्य दर्शन दे रहे हों और भक्तों ने भी भरपूर समय दिया और भोलेनाथ की सजावट प्रारम्भ से लेकर अंतिम तक एक जुट होकर सभी भक्तों ने बाबा की भरपूर सेवा कर आरती में सम्मिलित हो भगवान का महा प्रसाद ग्रहण कर अपने अपने घर को लौट गए । इस शुभ कार्य दिवस पर राम जानकी पीठ के महंत उमापति मिश्र, पं.आदित्य नारायण दुबे, वीरेंद्र मणि तिवारी, पं.विपिन तिवारी, पं.विजय मिश्र, पं. परमेंद्र शुक्ल, पं. पंकज तिवारी, लाल बृजेश सिंह, मृत्युंजय मिश्र(संगम), संदीप पाण्डेय, अंजनी, प्रेमचंद्र, बिपिन, रवीन्द्र, बाबी, फूलचंद्र पाण्डेय, सुजीत तिवारी, कुलदीप मिश्र,अंबुज, उपेंद्र, मनीष, संजीव सिंह, विमलेश गिरि, विजय गिरि,राजेश गिरि, शिवम गिरि, शिवांशु गिरि, संदीप गिरि, कुश गिरि, नीरज गिरि,कुश गिरि,सुधीर तिवारी’रिशू”, वैष्णों पाण्डेय,हरिश्चंद्र, रोहित, संतोष, ददन, विनय, दिनेश, दिलीप, युवराज, रघुराज, कमल, मनोज, अरुण, आदि सैकडों भक्तगण उपस्थिति रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

three + sixteen =