ऊंचाहार में जनसूचना अधिकार अधिनियम का खुलेआम उड़ाया जा रहा मखौल

सारा समय न्यूज डेस्क

जनसूचना अधिकार के तहत मांगी गई सूचना में ही छुपा है बड़ा भ्रष्टाचार

एक माह बाद भी सूचना देने में अधिकारी कर रहे हीलाहवाली

ऊंचाहार की गंगोली ग्राम पंचायत से संबंधित हैं सूचनाएं

पेयजल व्यवस्था ,और कई कार्यों में हो सकता है भ्रष्टाचार का खुलासा

सारा समय न्यूज नेटवर्क
ऊंचाहार रायबरेली।विकास खंड में जनसूचना अधिकार का अधिकारी खुलेआम मखौल उड़ा रहे हैं,जिम्मेदारों की उदासीनता के चलते सूचनाएं दबाई जा रही हैं ,अंदेशा है कि मांगी गई सूचना के पीछे भ्रष्टाचार की एक बड़ी कहानी छिपी है।
गौरतलब है कि ऊंचाहार के पूरे रामबक्स निवासी सूरज शुक्ल ने लगभग एक माह पूर्व गंगोली ग्राम पंचायत के जनसूचना अधिकारी /ग्राम पंचायत अधिकारी से जनसूचना अधिकार अधिनियम 2005 के अनुसार कुछ बिंदुओं पर सूचना मांगी थी ।
बताया जा रहा है कि मांगी गई सूचनाओं के पीछे भृष्टाचार की एक बड़ी कहानी छिपी होने के कारण सूचनाएं नही भेजी जा रही हैं।

इनसेट
दो सचिवों के बीच उलझ रहा संबंधित दस्तावेज विवाद
ऊंचाहार।जनसूचना अधिकार से मांगी गई सूचना को लेकर दो सचिवों में दस्तावेजों को लेकर मन ही मन विवाद की स्थिति पैदा होती दिखाई दे रही है ।
सूत्र बताते हैं की मांगी गई सूचना तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी संजय यादव के कार्यकाल की हैं जबकि मौजूदा समय में मोहम्मद अहमद को ग्राम पंचायत आवंटित की गई है।
जानकर बताते हैं कि तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी द्वारा चार्ज में संपूर्ण दस्तावेज नहीं दिए हैं जिसके कारण सूचनाएं अप्रेषित हैं।

इनसेट
आखिर सचिव क्यों दबा रहा है दस्तावेज ?

ऊंचाहार।गंगोली ग्राम पंचायत का तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी द्वारा चार्ज में संपूर्ण दस्तावेज न देना और सूचना से संबधित दस्तावेजों के दबाने के पीछे आखिर ग्राम विकास अधिकारी की क्या मंशा है ये बड़ा सवाल है ,सवाल ये भी की कहीं भ्रष्टाचार को दबाने के लिए ही तो दस्तावेज नहीं रोके जा रहे ?

इनसेट
क्या कहते हैं जिम्मेदार?
ऊंचाहार।मामले को लेकर ग्राम पंचायत अधिकारी मो.अहमद से बात की गई तो उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत के तत्तकालीन सचिव संजय यादव से दस्तावेजों के संबंध में वार्ता की जा रही है ,दस्तावेज जल्द प्रेषित किए जायेंगे।

क्या कहते हैं बीडीओ?
ऊंचाहार ।विकास खंड के खंड विकास अधिकारी तेजराम वर्मा ने बताया कि सूचनाओं के प्रेषण हेतु संबंधित कर्मचारियों से वार्ता की जा रही है जल्द ही सूचनाएं प्रेषित करवाई जाएंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

twelve − 12 =